बनवासी ( शिव कुमार बटालवी)

मैं बनवासी, मैं बनवासी
आया भोगन जून चुरासी
कोई लछमन नहीं मेरा साथी
ना मैं राम अयुद्ध्या वासी
मैं बनवासी, मैं बनवासी ।

ना मेरा पंच-वटी विच डेरा
ना कोई रावन दुशमन मेरा
कणक-ककई्ई मां दी ख़ातिर
मैथों दूर वतन है मेरा
पक्की सड़क दी पटड़ी उत्ते
सौंदिआं दूजा वर्हा है मेरा
मेरे ख़ाबां विच रोंदी है
मेरी दो वर्हआं दी काकी
जीकन पौन सरकड़े विचों
लंघ जांदी है अद्धी राती
मैं बनवासी, मैं बनवासी ।

कोई सुगरीव नहीं मेरा महरम
ना कोई पवन-पुत्त मेरा बेली
ना कोई नख़ा ही काम दी ख़ातिर
आई मेरी बनन सहेली ।

मेरी तां इक बुढ्ढी मां है
जिस नूं मेरी ही बस्स छां है
दिल भर थुक्के दिक्क दे कीड़े
जिस दी बस्स लबां ‘ते जां है
जां उहदी इक मोरनी धी है
जिस दे वर लई लभ्भनी थां है
जां फिर अनपड़्ह बुढ्ढा प्यु है
जो इक मिल विच है चपड़ासी
ख़ाकी जिद्हे पजामे उत्ते
लग्गी होई है चिट्टी टाकी
कोई भीलनी नहीं मेरी दासी
ना मेरी सीता किते गवाची ।

मेरी सीता करमां मारी
उह नहीं कोई जनक दुलारी
उह है धुर तों फाक्यां मारी
पीली पीली माड़ी माड़ी
जीकन पोहली मगरों हाड़्ही
पोले पैरीं टुरे विचारी
जनम जनम दी पैरों भरी
हाए ! गुरबत दी उच्ची घाटी
कीकन पार करेगी शाला
उहदी त्रीमत-पन दी डाची ?
हक्क संग ला के मेरी काकी ?
इह मैं अज्ज कीह सोच रिहा हां
क्युं दुखदी है मेरी छाती ?
क्युं अक्ख हो गई लोहे-लाखी
मैं उहदी अगन प्रीख्या लैसां
नहीं, नहीं, इह तां है गुसताखी
उस अग्ग दे विच उह सड़ जासी
मेरे ख़ाबां विच रोंदी है
मेरी दो वर्हआं दी काकी
हर पल वधदी जाए उदासी
जीकन वर्हदे बद्दलां दे विच
उड्डदे जांदे होवन पंछी
मट्ठी मट्ठी टोर निरासी
मैं बनवासी, मैं बनवासी ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s